वास्तु व हिन्दू शास्त्र में मंत्रों का विशेष महत्त्व ll

ज्यादातर लोग मंत्रो को अपने जीवन में ज्यादा महत्व नहीं देते l व् कुछ लोग तो इन्हे केवल शब्द मात्र ही मानते है l यह कुछ ऐसे-वैसे शव्द नहीं है l

इन सभी मंत्रो को हमारे भारत वर्ष में रहने वाले ग्यानी ऋषि मुनियो ने अपने ध्यान व् साधना से सिद्ध किया है l

मन्त्र  का अर्थ होता है मन को ईश्वर में बांधना। प्रभु की प्राप्ति के मार्ग में मंत्र सबसे सरल उपाय है। आप जिस भी ईष्ट देवी या देवता को मानते है उन्ही का आप मन्त्र जाप कर सकते है ।

एक बात और है की हर विपरीत स्थिति में हमे अपने प्रभु यानि भगवान् ही याद आते है l कुछ ऐसे मन्त्र है जो आप जप कर अपने जीवन में तरक्की व् सुख समृद्धि पा सकते है l और इन मंत्रो की पॉजिटिव एनर्जी आप अपने जीवन में भी महसूस करेंगे l

ॐ गं गणपत्ये नम:।

भगवान गणपति को विगन हारता माना गया है। सभी मांगलिक व् शुभ कार्यों की आरम्भ  में श्री गणेशाय नम: मंत्र का उच्चारण किया जाता है।

इस मन्त्र का आप गणपति जी की प्रतिमा आगे रोली और दूर्वा चढ़ा के एक सो आठ बार यानि एक माला जाप करे l इससे जीवन में सभी तरह के शुभ आरम्भ होंगे ।

शांतिदायक मंत्र :-

श्री राम, जय राम, जय जय राम ll 

श्री बजरंगबली महाराज भी राम नाम का स्मरण करते है व् जाप करते है l  ऐसा कहा जाता है की राम नाम से बढ़कर कोई नाम नहीं यही इस संसार में l

तथा आप इस मन्त्र का शांत व् एकाग्रचित होकर के रोज़ाना जाप करे l दिमाग शांत रहता है और आपको सभी प्रकार की विपदाओं से छुटकारा मिलता है l

।ॐ भूर्भुव: स्व: तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो न: प्रचोदयात्।।

यह संसार का सर्व सिद्ध किया हुआ मन्त्र है, जो प्रभु के प्रति, प्रभु का साक्छी और ईश्वर के लिए है।

यह मन्त्र एक महा मन्त्र है जो सभी समस्याओ से मुक्ति दिलाता है और मोक्षदायी है l।

महालक्ष्मी मंत्र :-

श्रीं श्रीं श्रीं श्रीं ll 

महालक्ष्मी च विद्महे विष्णु पत्नी च धीमहि तन्नो लक्ष्मी प्रचोदयात

यह देवी लक्ष्मी जी का यह बहुत ही चमत्कारिक मन्त्र है किसी भी वक़्त देवी लक्ष्मी के सामने इन मंत्रोका जाप कर सकते है l

चिंता मुक्ति मंत्र :-

ॐ नम: शिवाय।

यह 3 शब्दों के मेल से बना महामंत्र है l इस मन्त्र के जप मात्र से ही चिंता रहित जीवन मिलता है l

यह मंत्र आपके जिंदगी में हमेशा सुख समृधीधी को बनाये रखता है l शिवलिंग पर गंगा जल व बिल्वपत्र चढ़ाते हुए यह मंत्र अवश्य ही बोलें l

क्लेशनाशक मंत्र :-

कृष्णाय वासुदेवाय हरये परमात्मने। प्रणत क्लेशनाशाय गोविन्दाय नमो नम:॥

जिस घर में ज्यादा कलेश भरा माहौल रहता है व् खुशियों को ग्रहण सा लग गया हो तो आप रोज़ाना नहा धोकर इस मन्त्र का कम से कम एक माला अवश्य ही जाप करे l  शीग्र लाभ होगा l

vastu-shastr-me-mantro-ka-kya-mehetv-hota-hai-va-iske-labh

शांति, सुख और समृद्धि हेतु : भगवान विष्णु के वैसे तो बहुत मंत्र हैं, लेकिन यहां कुछ प्रमुख मंत्र हैं।

त्वमेव माता च पिता त्वमेव।

त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव।।

त्वमेव विद्या द्रविणं त्वमेव।

त्वमेव सर्व मम देवदेव।।


*शांताकारं भुजगशयनं पद्मनाभं सुरेशम्।

विश्वाधारं गगनसदृशं मेघवर्णं शुभाङ्गम्।।

लक्ष्मीकान्तंकमलनयनं योगिभिर्ध्यानगम्यम्।

वन्दे विष्णुं भवभयहरं सर्वलोकैकनाथम्।।

भगवान नारायण जग के पालन हार है। इसलिए पीले पुष्प  व पीला वस्त्र अर्पित करेl और इस मन्त्र का प्रतिदिन जाप करे l , तो जीवन व् विचारो में पजिटिविटी आएगी  ।

महामृंत्युजय मंत्र :-

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिंपुष्टिवर्द्धनम्।

उर्वारुकमिव बन्धानान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात्।।

शिव का महामृंत्युजय मंत्र दुर्घटना व अकाल मृत्यु को टालने वाला माना जाता है

धन के अभाव को दूर करने हेतु:-

ॐ ह्रीं ह्रीं श्री लक्ष्मी वासुदेवाय नम:।

इस मंत्र की ग्यारह माला सुबह नाहा धोकर जप करे l और घी का दिया जलाये व् धूप जलाये l इस से धन, सुख, शांति प्राप्त होती है।

धन के कमी को दूर करने के लिए इस मंत्र का जप करना अति आवश्यक है।

विशेष:-

प्रिय पाठकों !आप इन मंत्रों द्वारा आप अपने जीवन में आने वाले दुःख व संकट को कम कर सकते है l

मंत्रो के जरिये आप अपने आने वाले संकट व् विपत्ति से भी निजात पा सकते है l मंत्रो में शक्ति होती है l

महामृत्युंजय मंत्र का चमत्कारी लाभ

Leave a Comment

%d bloggers like this: