सूर्य देव की असीम कृपा पाने का सरल उपाय ॥

सूर्य देव की असीम कृपा पाने का सरल उपाय

हिन्दू शास्त्र में वास्तु पांच तत्त्व से बना है | अग्नि, वायु, जल, पृथ्वी, और आकाश | सूर्य भी अग्नि का ही स्वरुप माना जाता है | सूर्य की प्रिय धातु तांबा है | तांबे का सूर्य घर में लगाने से सूर्ये देव नकारात्मक ऊर्जा से बचाते है ,वास्तु दोष खत्म करते है,और सकारात्मक उर्जा बढ़ाते है |

कुंडली में अगर किसी व्यक्ति का सूर्य ग्रह कमजोर है या पीड़ित है, तो सबसे आसान है की वे अपने कमरे में तांबे का सूर्य लगाएं | ऐसा करने से उनका मनोबल बढ़ेगा |

ऐसा घर जहां बिल्कुल धूप ना आती हो| और पूर्व दिशा खुली ना हो,या फिर सामने लंबी दीवार हो, बिल्डिंग हो ,या कोई बिजली का खंबा हो,तो वह दोष मुक्त करने के लिए अपने घर की पूर्व दिशा में तांबे का सूर्य लगाएं | और सूर्य को मजबूत करने के लिए सूर्य उदय से पहले जागे और रात्रि में जल्दी सोये |

सूर्य आराधना करें | सूर्य देव को जल अर्पित करें| याद रहे कि सूर्य देव को तांबे के पात्र में जल अर्पित करें| सूर्य देव को जल में कुमकुम,लाल पुष्प ,अक्षत और गुड़ डालकर ही जल चढ़ाएं |

सूर्य देव के जल के पात्र में कभी भी भूल कर दूध ना डालें| तांबे के पात्र में कभी भी भूल से भी दूध डालकर जल नहीं चढ़ाना चाहिए|

इस प्रकार सूर्य देव से बल पाकर हम अपना घर और जीवन दोनों ही खुशहाल बना सकते हैं | और सूर्य देव को जल अर्पित करते समय इन 12 नामों का जाप करें | और सूर्य देव को प्रसन्न करके अपने जीवन में यश, गौरव, तेज, मान सम्मान में वृद्धि करें|

कृपया इस आजमाये हुए उपाय को अपने जीवन में जरूर अपनाएं |

श्री सूर्य जी के बारह नाम

1. ॐ मित्राय नमः

2. ॐ रवये नमः

3. ॐ सूर्याय नमः

4. ॐ भानवे नमः

5. ॐ खगाय नमः

6. ॐ पूष्णे नमः

7. ॐ भास्कराय नमः

8. हिरण्यगर्भाय नमः

9. ॐ मरीचे नमः

10. ॐ आदित्याय नमः

11. ॐ अर्काय नमः

12. ॐ सवित्रे नमः

 

श्री सूर्यदेव के बारह नाम नित्य, पठन, पाठन, एवं स्मरण करने से सब रोगों का निवारण होता है। किसी दवाई से रोगी का रोग ठीक नहीं होता तो सूर्य के बारह नाम नित्य पाठन करने से रोगी रोग मुक्त हो जाता है।

Leave a Comment

%d bloggers like this: