Main reasons for poverty || घर मे गरीबी आने के मुख्य कारण ।।

घर मे गरीबी आने के मुख्य कारण ।।

* भगवान का शुक्रिया किये बिना खाना खाना ।

* झूठी सौगंध लेना l 

* जूते चप्पल उल्टा देख कर सही नही करना।

* 40 दिवस से अधिक बालों को रखना ।

* नाखूनों को दांतो से काटना।

* स्त्रियों का खडे-खडे बालों  का बांधना।

* गंदे व फटे हुए कपड़ो को धारण करना l 

* प्रातः सूर्य उदय तक बिस्तर न छोड़ना ।

* पेड-पौधों के नीचे मलमूत्र करना।

* उल्टा सोना।

* श्मशान भूमि में हसना ।

* रसोई घर के निकट में मलमूत्र करना ।

* टूटे कंघे से बालों को सवारना और घर मे टुटी फुटी वस्तुओं  का प्रयोग करना ।

* किसी का धोखे व जबरदस्ती से धन प्राप्त करना ।

* अधिक समय तक घर में कूडा – कचरा जमा करना ।

* सम्बन्धियों से बदसुलूकी करना।

* उलटे पैर से पैंट पहनना।

*शाम के समय सोना।

* सम्बन्धियों  के आने पर नाराज होना।

*जरुरत से ज्यादा खर्च करना।

* रोटी को दांतो से काट कर खाना l 

* पीने का जल रात्रि में खुला रखना ।

* रात्रि में मांगने वाले को कुछ देना ।

* आलस मे रहना एवं मेहनत से दूर भागना ।

ghar-me-gareebi-ane-ke-mukhye-karan-va-upaye-poverty-reasons

* भगवान का अपमान करना। 

* पवित्रता के बिना धर्मग्रंथ बाचना ।

*मलमूत्र करते वक्त बाते करना।

* हाथ धोए बिना खाना खाना ।

* अपनी सन्तान को कोसना।

* दरवाजे पर बैठना।

* लहसुन प्याज के छिलके जलाना।

* साधू संतो का अपमान करना।

* फूक मार के दीया बुझाना।

* गाय , बैल को लात मारना ।

* माता-पिता को अपमानित  करना ।

* किसी की गरीबी और लाचारी का मजाक उडाना ।

* दाँत गंदे रखना और रोज ना नहाना l 

* बिना नहाये और संध्या के समय भोजन करना ।

* पडोसियों का अपमान करना, गाली देना ।

* मध्यरात्रि में भोजन करना ।

* गंदे बिस्तर में सोना ।

* वासना और क्रोध से भरे रहना | 

* दूसरे को अपने से हीन समझना आदि ।

* घर में मकड़ी के जाला लगना l 

* रात्रि को झाडू लगाना।

* अन्धेरे में भोजन करना ।

* घड़े से मुंह लगाकर पानी पीना।

* धर्मग्रंथ न पढ़ना।

* नदी, तालाब में शौच साफ करना और उसमें पेशाब करना ।

ये वह कुछ मुख्य कारण है जिन वजह से हमे एवं हमारे परिवार को दारिद्रता का सामना करना पडता है |

अगर हम मे ये दोष है, तो उन्हे दूर करे | और अपना कार्य यांनी रोजी-रोटी के साधन मे मेहनत और लगन से सहयोग दे | यश एवं सम्पन्नता आप के साथ-साथ चलेगी | 

विशेष :-

घर और आस-पास के वातावरण को स्वच्छ रखने के लिए आप नियमित तौर पर नीम की पत्तियों, गुगल, देवदारु, दो लौंग, और कपूर को साथ में जलाएं |

उसके धुएं को घर और आस-पास में फैलने दें | इससे घर और बाहर का वातावरण शुद्ध होता है, और मन को शांति प्राप्त होती है | 

|| ऐसे करे किचन का वास्तु दोष निवारण ||

Leave a Comment

%d bloggers like this: