कैसे करे गृह दोष की निवृत्ति इन सरल उपायों से ||

||ऐसे करे गृह दोष निवृत्ति ||

कलयुग में भगवान शिव के अवतार संकट मोचन हनुमान जी की उपासना करने का फल जल्द ही मिलता है|

अगर उनका पूजन कुछ इस प्रकार किया जाये तो | श्रीराम के परम भक्त एवं सेवक हनुमान जी से अगर कोई वरदान पाना हो तो ,आपको इसके लिए सबसे पहले श्री राम का नाम लेना होगा|

यदि आपके पास कोई भी राम मन्त्र है तो आप उसका भी जाप कर सकते है | अगर आप श्रीराम के परम भक्त हैं, तो हनुमान जी आपके सभी बिगड़े काम अवश्य ही बनाएंगे|

अगर आपका कुंडली में मंगल ग्रह कमजोर या पीड़ित है, तो आप हनुमान जी की उपासना करके स्वयं ही अपने मंगल ग्रह को मजबूत एवं दोष मुक्त कर सकते हैं |

मंगल दोष से मनुष्य को अनेक प्रकार की समस्या का सामना करना पड़ जाता है, जैसे:- विवाह में बाधा, विवाह के बाद का गृह कलेश, कर्ज में बढ़ोतरी, जेल के योग, लीवर व पेट में अल्सर,या कैंसर होना, नौकरी में तरक्की ना होना, नौकरी छूटना, गंभीर बीमारी में दवा का असर ना होना, इत्यादि |

कई बार घर में वास्तु दोष के चलते कई समस्या हो जाती है, बनते काम बिगड़ते है | तो घर में वास्तु दोष दूर करने के लिए रोज नहा धोकर हनुमान जी की तस्वीर के आगे घी की बाती लगाकर तीन बार बजरंग बाण का पाठ अवश्य करें |

ध्यान रखने योग्य बात यह है कि हनुमान जी की तस्वीर केवल आशीर्वाद देते हुए मुद्रा में ही होनी चाहिए |

याद रखे केवल ऐसी तस्वीर के पूजन से ही आप हनुमान जी की पूर्ण अनुकंपा व आशीर्वाद प्राप्त कर सकते है |

और ध्यान रखे कि ऐसी तस्वीर बिलकुल ना हो जिसमें हनुमान जी अपने प्रभु श्री राम की सेवा में संलग्न हो या फिर पर्वत अपने हाथों में उठाते हुए |

वास्तु दोष मुक्ति के लिए हनुमान जी को लाल झंडा चढ़ाने के बाद उसे घर के दक्षिण दिशा में लगाने से वास्तु दोष से मुक्ति मिलती है| और पंचमुखी हनुमान जी की प्रतिमा अपने मुख्य द्वार पर अवश्य ही लगाएं |

सभी प्रकार के ग्रह दोषों से मुक्ति पाने के लिए आटे का दीपक में लाल बाती घी की जला कर तीन बार बजरंग बाण का पाठ अवश्य करें | व हनुमान जी के इन नीचे दिए गए 12 नामों का उच्चारण करके घर में जयकारा लगाएं | इससे बुरी शक्तिया आपके घर से दूर रहेंगी |

 

प्रिय पाठको यह आजमाया हुआ प्रयोग है, कृपया आप भी अपने जीवन में इसे अवश्य ही अपनाएं |

॥ श्री हनुमान जी के बारह नामों का प्रभाव॥

1* हनुमान

2* अंजनीसुत

3* पवनपुत्र

4* महाबली

5* रामेष्टा

6* फाल्गुनसखा

7* पिङ्गाक्ष

8* अमितविक्रम

9* उदधिक्रमण

10* सीताशोकविनाशन

11* लक्ष्मणप्राणदाता

12* दशग्रीवदर्पहा

इन बारह नामों को लिखकर पास रखने से अकाल मृत्यु नहीं होती है। भूतप्रेत से भय नहीं होगा। तो ये 12 नामों को लिखकर पास में रखने से स्त्रिओ को कभी गर्भपात नहीं होगा और समस्त भय दूर हो जाते हैं।

अन्य वास्तु टिप्स 

Leave a Comment

%d bloggers like this: