अब ऐसे मिलेगा अपने भाग्य का साथ ||

अपने भाग्य को जागरूक करने के लिए यानी सोये हुए भाग्य को जगाने के लिए घर मे उपयोग होने वाली इन वस्तु टिप्स पर ध्यान दे। अगर आपके घर मे बन्द घड़िया रखी है तो आप उन्हें तुरंत ठीक करवाये या ये सम्भव नही है तो घर से निकाले।

समय बोहोत बलवान होता है मित्रो। समय सही होना अति आवश्यक है। ये बन्द घड़िया ही आपके भाग्य को दुर्भाग्य में बदल देती है। और घर मे नेगेटिव एनर्जी छोड़ती है। अगर आपके घर मे एक से अधिक दीवार घड़ी है तो ध्यान रखे कि वे रुकी हुई ना हो और एक दूसरे से कोई भी घड़ी आगे पीछे ना हो।

ये भी जरूरी है की घड़ी हमेशा सही समय दे इस बात का हमेशा ही ध्यान रखे। क्योंकि सही समय से पीछे चलती हुई घड़िया वास्तु के अनुसार सही नही मानी जाती है।

ऐसा कहा जाता है कि ये आपके भाग्य को पीछे कर देती है। अब बात आती है कि वास्तु के अनुसार दीवार घड़ी कहा लगाय। तो मित्रो घर मे सबसे शुभ दिशा घड़ी के लिए केवल उत्तर या पूर्व दिशा ही है। बोहोत से लोग है इसके बारे में बिल्कुल विचार नही करते ।

किसी भी दिशा में घड़ी लगा लेते है । मगर ये वास्तु के अनुसार बिल्कुल भी सही नही है। अपना सोये भाग्य को जगाने के लिए ओर अच्छा समय लाने के लिए आप किसी भी शनि मंदिर या शिवालय में शनिवार को चुपचाप बिना किसी को बताय चलती हुई घड़ी लगा कर या रख कर आ जाये।

ये उपाय आप अपने जीवन मे सामर्थ्य अनुसार करते रहे। फिर देखिए आप अपने जीवन मे बदलाव महसूस करेंगे। इससे आपके जीवन मे पाजिटिविटी आएगी।

और एक बात मैं विशेष तौर से बताना चाहूंगी की आप कुछ भी उपाय करते है बाहर जाकर तो घर आकर किसी को ना बताय। इससे उपाय का असर खत्म हो जाता है। अपने बुरे समय को शीघ्र दूर करने ओर सौभाग्य जगाने के लिए आप ये उपाय भी कर सकते है |

कि गाय,कुत्ते,पक्षी व मानव आदि प्राणियोक लिए जल की व्यवस्था कर सकते है। जल ki व्यवस्था करने से इनकी हर तरह की दुआ आपको मिलेगी।

मित्रो जीवन मे एक समय ऐसा भी आता है जब मनुष्य को दवा की नही दुआ की जरूरत होती है। इन प्राणियों की दुआओ में वो शक्ति होती है कि मनुष्य का बुरे से बुरा समय भी पल में ही टल जाता है। इसे वेदों के पंचयज्ञ में से एक “वैश्वदेव यज्ञ कर्म”कहा गया है यह सबसे बड़ा पूण्य माना गया है।

इसके अलावा आप मंगल व शनिवार को कछुए ओर मछलियों को आटे की गोली बना कर खिला सकते है। और चींटियों को भुने आटे में बूरा  मिलाकर पंजीरी बनाकर खिलाय।

प्रतिदिन कौवे या पक्षियों को दाना डालने से पितृर तृप्त होते है। जिनकी कुंडली मे पितृर दोष होता है उन्हें ये उपाय अवश्य ही करना चाहिए। इससे उन्हें पितरो का आशीर्वाद मिलेगा। आप गली में घूमने वाले गाय व कुत्ते की सेवा जरूर करे। इन्हें कभी भी मारे नही।

आप इन्हें खाने के लिए रोटी व कुत्ते को बिस्कुट या डबलरोटी दे सकते है। ऐसा करने से जीवन मे आने वाले आकस्मिक आर्थिक संकट व शत्रु संकट से मुक्ति मिलती है।

विशेष :-

तो मित्रो ये उपाय सब आजमाए हुए है और बोहोत उपयोगी भी है। इनको अवश्य ही अपने जीवन मे आरम्भ करके स्वंय अपने जीवन को बेहतर बनाइये।

|| अब होगा घर के मुख्य द्वार से देवी लक्ष्मी का आगमन ||

Leave a Comment

%d bloggers like this: